Hindī nāṭaka para pāścātya prabhāva

Portada
Lokabhāratī Prakāśana, 1966 - 491 pàgines

Des de l'interior del llibre

Què en diuen els usuaris - Escriviu una ressenya

No hem trobat cap ressenya als llocs habituals.

Continguts

Secció 1
3
Secció 2
5
Secció 3
11

No s’hi han mostrat 41 seccions

Frases i termes més freqüents

अथवा अधिक अपनी अपने अश्क आदि इन इब्सेन इस नाटक इस प्रकार इस रचना इसी उनकी उनके उन्होंने उपयोग उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं कर करके करते करने करने के का प्रभाव कारण किन्तु किया है किसी की कुछ के इस के प्रति के रूप में के लिए के लिये के साथ को लेकर गया है ग्रहण चित्रण जब जाता है जी ने जीवन के जो तथा तो था दि दिया दृष्टि दो द्वारा नहीं नाटक के नाटक में नाटककार नाटककारों नाटकीय नाटकों नाटकों के नाटकों में नाट्य पर पश्चिम के पाश्चात्य प्रभाव पृ० प्रकार के प्रगट प्रयोग प्रसाद जी प्रस्तुत प्रारम्भ बाद भारतीय भावना मनुष्य में भी मोलियर यह रचना रचनाओं में वह विकास विचार विभिन्न विशेष वे शा शेक्सपियर शैली संस्कृत सामाजिक साहित्य से स्थान स्पष्ट स्वच्छन्दतावादी हम हिन्दी ही हुआ है हुई हुए हुये है और है कि हैं हो होता है होने

Informació bibliogràfica